सफाई कर्मी बोले, ठेकेदारी प्रथा बर्दाश्त नहीं करेंगे

Spread the love

देहरादून। पूर्व विधायक राजकुमार की अगुवाई में दून मेडिकल कॉलेज में हंगामा दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कार्यरत 150 सफाई कर्मियों को उपनल से हटाकर ठेकेदार के माध्यम से रखे जाने को लेकर कर्मचारियों ने विरोध शुरू कर दिया है। उन्होंने पूर्व विधायक राजकुमार की अगुवाई में कॉलेज में हंगामा किया और ठेकेदारी प्रथा के खिलाफ आंदोलन किये जाने की चेतावनी दी। कर्मचारियों ने कहा कि उपनल के माध्यम से लगभग 150 सफाई कर्मचारी कार्य कर रहे हैं, जो कि उपनल के माध्यम से साल 2009 व उससे भी पहले से सेवा दे रहे हैं। लेकिन अब उनको उपनल के माध्यम से हटाकर ठेकेदार के माध्यम से रखा जा रहा है। जो बेहद गलत है, इससे उनकी आर्थिकी पर असर पड़ेगा और मिलने वाले लाभ नहीं मिलेंगे। उधर, प्राचार्य डा. आशुतोष सयाना का कहना है कि शासन के आदेशों के मुताबिक ही काम किया जा रहा है। सफाई व्यवस्था आउटसोर्सिंग एजेंसी के माध्यम से कराने के आदेश है। जिसके लिए टेंडर किये गये हैं। उपनल ने भी उसमें आवेदन किया है। कर्मचारियों को राजनीति नहीं करने की हिदायत दी गई है। जो कर्मचारी काम में लापरवाही करेगा या देरी से आएगा जाएगा उसे तत्काल हटा दिया जाएगा। इस दौरान प्राचार्य विष्णु, दीपक, विनोद, अशोक, कुणाल, विकेश, राहुल, संदीप, सन्नी आदि मौजूद रहे।
अस्पताल में अव्यवस्थाओं का अंबार, पूर्व विधायक आंदोलन करेंगे- पूर्व विधायक राजकुमार में दून अस्पताल में अव्यवस्थाओं के अंबार पर कड़ी नाराजगी जताई। उन्होंने आरोप लगाया कि अस्पताल में एंटी रैबीज वैक्सीन छह माह से अस्पताल में नहीं है। अस्पताल में सफाई व्यवस्था ध्वस्त है। दवाई डाक्टर बाहर से लिख रहे हैं। कई दवा अस्पताल में है नहीं। सीटी स्कैन मशीन कई माह से खराब होने से मरीज भटक रहे हैं और निजी लैबों पर लुट रहे हैं। पानी की व्यवस्था असपताल में नहीं है। स्ट्रेचर की एवज में मरीजों से वसूली की जाती है। कहा कि अब इसे लेकर बड़ा आंदोलन किया जाएगा। उधर, प्राचार्य डा. आशुतोष सयाना ने कहा कि अस्पताल में दवाओं की कोई कमी नहीं है। सफाई ठीक नहीं होने पर कर्मियों को निकाला जाएगा। वहीं, सीटी स्कैन मशीन को शासन में प्रस्ताव लंबित है। एंटी रैबीज इंजेक्शन को कंपनी नहीं आ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *