पेयजल निगम के अधिशासी अभियन्ता को रिस्वत लेने के आरोप में किया निलंबित, पढ़िए क्या है मामला

Spread the love

देहरादून। सचिव प्रभारी पेजयल अरविन्द सिंह द्वारा जारी आदेश के क्रम में इमरान अहमद, अधिशासी अभियन्ता, दून शाखा उत्तराखण्ड पेयजल निगम का किया गया निलम्बन माननीय उच्च न्यायालय द्वारा पारित निर्देशों के अनुपालन में इस प्रकरण की निर्धारित अगली सुनवाई की तिथि 11 अप्रैल तक के लिए स्थगित किया गया है।
सचिव पेयजल द्वारा बताया यह निर्णय मा.उच्च न्यायालय द्वारा पारित दिनांक 02 अप्रैल, 2018 के समादर में किया गया है। आदेश में उल्लिखित किया है कि विगत दिनों दैनिक अमर उजाला में दिनांक 09 मार्च 2018 को निगम के ‘‘इंजीनियर का घूस लेते वीडियो वायरल’’ तथा ‘‘पेयजल मंत्री के आवास के ओवरहैड टैंक में पांच छेद शीर्षक’’ से प्रकाशित प्रकरणों में इमरान अहमद, अधिशासी अभियन्ता, दून शाखा उत्तराखण्ड पेयजल निगम को प्रथम दृष्टा भ्रष्टाचार का दुराचरण करने एवं कार्य सम्पादन में शिथिलता बरतने का दोषी मानते हुए तत्काल प्रभाव से निलम्बित किया गया था। इमरान अहमद द्वारा उक्त आदेश के विरूद्ध मा.उच्च न्यायलय में रिट याचिका, इमरान अहमद बनाम उत्तराखण्ड राज्य एवं अन्य योजित की गयी, जिसमें मा.न्यायालय द्वारा दिनांक 02 अप्रैल 2018 को शासन के उक्त आदेश को प्रश्नगत याचिका में सुनवाई हेतु निर्धारित अगली तिथि तक के लिए स्थगित करते हुए याचिका में सुनवाई हेतु अगली तिथि 11 अप्रैल 2018 नियत की गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *