न्यूज़ीलैण्ड की मस्जिद में गोलीबारी के बाद दुनियाभर में गम और गुस्से का माहौल

Spread the love

न्यूजीलैंड की दो मस्जिद में सुनियोजित तरीके से की गयी गोलीबारी में 49 लोगों को मौत के घाट उतार दिया। मरने वालों में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं। 20 से ज्यादा लोग बुरी तरह घायल हो गए। जिसके बाद दुनियाभर में गम और गुस्से का माहौल है| सबकी नज़रें न्यूज़ीलैण्ड सरकार की प्रतिक्रिया पर टिकी हुई हैं| न्यूजीलैंड पुलिस के मुताबिक, हमलावर एक ऑस्ट्रेलियाई युवक ब्रेंटन टैरेंट (28) था। उसने मस्जिद में घुसने से पहले फेसबुक पर लाइव स्ट्रीमिंग शुरू कर दी। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे फुटेज में हमलावर को मस्जिद के अंदर घुसकर लोगों पर गोलियां बरसाते देखा गया।
आप को बता दें कि घटना स्थल से दो आईईडी भी बरामद हुए हैं, जिसे मिलिट्री पुलिस ने डिफ्यूज कर दिया। न्यूजीलैंड के पुलिस कमिश्नर माइक बुश ने बताया कि इस मामले में चार संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है, जिसमें तीन पुरुष और एक महिला शामिल हैं।
वहीं न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा एर्डर्न ने कहा, ‘यह सुनियोजित आतंकी हमला था’| हमलावर दक्षिणपंथी आस्ट्रेलियाई नागरिक था| प्रधानमंत्री जेसिंडा एर्डर्न ने न्यू प्लाईमाउथ में मीडिया को संबोधित करते हुए क्राइस्टचर्च की घटना को न्यूजीलैंड के इतिहास की सबसे खराब घटना बताया है|
इस हमले में बांग्लादेश क्रिकेट टीम के खिलाड़ी बाल-बाल बच गए जो जुमे की नमाज के लिए क्राइस्टचर्च की मस्जिद पहुंचे हुए थे।
पुलिस के मुताबिक, पहला हमला सेंट्रल क्राइस्टचर्च स्थित मस्जिद अल नूर में हुआ और दूसरा हमला लिनवुड मस्जिद में किया गया। पहले हमले में 41 लोगों की मौत हो गई, जबकि दूसरी मस्जिद में 7 सात लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी। इसके अलावा गोलीबारी का शिकार बने एक व्यक्ति की मौत क्राइस्टचर्च अस्पताल में हो गई।
वहीं हमले में भारतीय मूल के छह लोगों के मारे जाने की आशंका जताई जा रही है। न्यूजीलैंड में भारतीय उच्चायुक्त संजीव कोहली ने बताया कि शुरुआती सूचनाओं के मुताबिक, इस घटना में दो भारतीयों और चार भारतीय मूल के लोगों के मारे जाने की आशंका है। हालांकि, उन्होंने कहा कि ये जानकारी आधिकारिक नहीं है और न्यूजीलैंड की सरकार ने अभी इसकी पुष्टि नहीं की है। Dv news 24 इस आतंकवादी घटना की निन्दा करता है और मरने वालों के घर वालों को सब्र की तौफीक अता फ़रमाने की दुआ करता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *