निरीक्षण के दौरान हेल्थ वर्कर, पंचायत सेक्रेट्री तथा लेखपालों के अनुपस्थित पाए जाने तथा महत्वपूर्ण कार्य में लापरवाही बरतने पर संबंधित कर्मचारियों का जवाब तलब करने तथा विशेष प्रतिकूल प्रविष्टि करने के जिलाधिकारी रमाकांत पांडे ने दिए निर्देश

Spread the love

*DM MEDIA WAR ROOM, BIJNOR*
✒️🎄🎄🎄🎄🎄🎄🎄✒️
*निगरानी समितियों के कार्याें के निरीक्षण के दौरान हेल्थ वर्कर, पंचायत सेक्रेट्री तथा लेखपालों के अनुपस्थित पाए जाने तथा महत्वपूर्ण कार्य में लापरवाही बरतने पर संबंधित कर्मचारियों का जवाब तलब करने तथा विशेष प्रतिकूल प्रविष्टि करने के जिलाधिकारी रमाकांत पांडे ने दिए निर्देश*

जिलाधिकारी रमाकांत पाण्डेय ने विभिन्न अधिकारियों द्वारा निगरानी समितियों के कार्याें के निरीक्षण के दौरान हेल्थ वर्कर, पंचायत सेक्रेट्री तथा लेखपालों के अनुपस्थित पाए जाने तथा महत्वपूर्ण कार्य में लापरवाही बरतने पर मुख्य विकास अधिकारी, अपर जिलाधिकारी तथा मुख्य चिकित्साधिकारी को संबंधित कर्मचारियों का जवाब तलब करने तथा विशेष प्रतिकूल प्रविष्टि करने के निर्देश दिए। उन्होनंे यह भी निर्देश दिए कि क्वारंटाइन किए गए घर के बाहर चस्पां पोस्टर को जानबूझ कर फाड़े जाने तथा क्वारंटाइन के नियमों का उल्लंघन करने वालों के विरूद्व कोविड-19 महामारी अधिनियम, आपदा प्रबंधन अधिनियम तथा भारतीय दण्ड संहिता की सुसंगत धाराओं के अंतर्गत एफआईआर दर्ज कराई जाए। उन्होनंे संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि क्वारंटाइन किए गए घरों के बाहर निश्चित रूप से अमिट स्याही से क्वारंटाईन किए गए व्यक्ति का नाम तथा उसके परिवार के सदस्यों के नामों का अंकन किया जाए तथा क्वारंटाइन प्रक्रिया शुरू होने तथा खत्म की तारीख भी उक्त पोस्टर में दर्ज की जाए।
जिलाधिकारी श्री पाण्डेय आज शाम 4 बजे स्थानीय विकास भवन के सभागार में आयोजित निगरानी समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कार्याें की समीक्षा कर रहे थे।
उन्होंने बताया कि शासन के निर्देशों के अनुपालन मंे प्रत्येक ग्राम पंचायत स्तर पर ग्राम प्रधान की अध्यक्षता में निगरानी समिति का गठन किया गया था, समिति के सदस्यों में आशा, आंगनबाड़ी, चैकीदार, शिक्षा मित्र, रोजगार सेवक आदि समिति के सदस्य बनाए गए थे। उन्होनंे बताया कि उक्त समिति का उद्देश्य कोविड-19 के दृष्टिगत प्रवासी कामगारों के प्रदेश मं लौटने पर क्वारंटाइन करने तथा क्वारंटाइन करने वाले व्यक्तियों को आरोग्य सेतु एप तथा आयुष कवज एप को डाउनलोड कराते हुए क्वारंटाइन का पालन कराने आदि था ताकि इनके द्वारा जिले में संक्रमण न फैलने पाए। उन्होनंे यह भी बताया कि निगरानी समिति को निर्देश दिए गए थे कि क्वारंटाइन किए लोग अपने अपने परिवार के साथ अपने घरों मंे ही प्रथक कक्ष् में रहें और अनिवार्य रूप से मास्क, गमछा आदि से मुहं एवं नाक ढकें तथा साबुन से हाथों को नियमित रूप से धोएं तथा क्वारंटाइन किए गए व्यक्ति के घर में किसी भी अन्य व्ययक्ति के प्रवेश न होने दें। उन्होनंे बताया कि निगरानी समिति के दायित्वों में घर से बाहर उचित स्थान पर क्वारंटान फलाय, जिसमें क्वारंटाइन किए व्यक्ति तथा उसके परिवार के सभी सदस्यों के नाम एवं क्वारटाइन के शुरू और समाप्त होने की तारीख़ न मिटने वाली स्याही से लिखने के निर्देश दिए गए थे ताकि उस घर के क्वारंटाइन होने का पता चल सके।
उन्होंने निगरानी समिति को निर्देश दिए कि ग्रामीण क्षेत्रों में क्वारंटाईन किए गए व्यक्तियों तथा उसके घर के सदस्यों के मोबाइल में आरोग्य सेतु एप तथा आयुष सुरक्षा कवच अनिवार्य रूप से डाउनलोड करायें ताकि कोरोना वायरस संक्रमण की सही जानकारी हासिल हो सके। उन्होनंे यह भी निर्देश दिए कि निगरानी समिति के द्वारा सुनिश्चित किया जाए कि परिवार के सभी सदस्यों को सरकारी सुविधाओं एवं राहत योजनाओं का भरपूर लाभ प्राप्त होता रहे यदि क्वारंटाइन परिवार को सामाजिक विरोध सहित अन्य किसी कठिनाई का सामना करना पड़े तो उसका गम्भीरता के साथ समाधान सुनिश्चित कराएं। उन्होनंे यह भी निर्देश दिए कि क्वारंटाइन घरों पर लगाए गए पोस्टर 21 दिन की क्वारंटाइन अवधि पूरी होने पर हटाने की कार्यवाही की जाए।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकरी कामता प्रसाद सिंह, संयुक्त निदेश स्वास्थ्य डा0 अनिल कुमार, परियोजना निदेशक डीआरडीए आर के श्रीवास्तव, जिला पंयायत राज अधिकारी सतीश कुमार सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।

*M.ALI INFORMATION DEPTT. BIJNOR*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *