नानकसर सिंगरा गुरुद्वारा के संचालक बाबा राम सिंह ने गोली मारकर आत्महत्या कर ली। घटनास्थल पर सुसाइड नोट मिला हैं जिससे उन्होंने लिखा है कि किसानों का दर्द देखा नहीं जा रहा

Spread the love

सोनीपत। हरियाणा में सोनीपत के कुंडली बॉर्डर पर चल रहे धरना स्थल पर बुधवार शाम को नानकसर सिंगरा गुरुद्वारा के संचालक बाबा राम सिंह ने गोली मारकर आत्महत्या कर ली। घटनास्थल पर सुसाइड नोट मिला हैं जिससे उन्होंने लिखा है कि किसानों का दर्द देखा नहीं जा रहा। प्राप्त जानकारी के अनुसार करनाल के नानकसर सिंगरा गुरुद्वारे के बाबा रामसिंह (65) ने आज शाम कुंडली धरना स्थल के पास पिस्तौल से कनपटी पर गोली मार ली।

उनके परिचित अमरजीत सिंह ने बताया कि शाम को उन्होंने खुद को गोली मार ली। घायल अवस्था में उन्हें तुरंत पानीपत के निजी अस्पताल में ले जाया गया, जहां पर चिकित्सक ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। मामले की सूचना मिलते ही कुंडली थाना पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। निजी अस्पताल से शव को कब्जे में लेकर पानीपत के सामान्य अस्पताल में ले जाया गया है। पुलिस का कहना है कि जांच के बाद ही पूरे मामले का पता लग सकेगा। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि धरना स्थल पर कई किसान मौजूद थे। इसी दौरान बाबा रामसिंह ने आंदोलन में बलिदान देने की बातें करते हुए अन्य किसानों को स्टेज पर भेज दिया। उसके बाद खुद को अपने वाहन में जाकर गोली मार ली।

गोली मारने का पता लगते ही उन्हें घायल अवस्था में पानीपत के निजी अस्पताल में ले जाया गया। जहां चिकित्सक ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। मृतक के पास से मिले सुसाइड नोट में लिखा गया है कि कुंडली बॉर्डर पर किसानों का दुख देखा, अपना हक लेने के लिए सड़कों पर रुल रहे हैं। बहुत दिल दुखा है। सरकार न्याय नहीं दे रही। जुल्म है, जुल्म करना पाप है जुल्म सहना उससे भी बड़ा पाप है। किसी ने किसानों के हक में और जुल्म के खिलाफ कुछ किया और किसी ने कुछ किया। किसी ने अपने सम्मान वापस किए, मतलब अवार्ड, पुरस्कार वापस करके रोष जताया। दास किसानों के हक में सरकारी जुल्म के रोष में आत्मदाह मतलब सुसाइड कर रहा हूं। ये जुल्म के खिलाफ आवाज है तथा कीर्ति किसान के हक में आवाज है। वाहेगुरु जी का खालसा, वाहेगुरु जी की फतेह।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *