दुनिया सुरक्षित और कारगर कोरोना वैक्सीन खोज रही है। भारत भी इस रेस में

Spread the love

दिल्ली। पूरी दुनिया सुरक्षित और कारगर कोरोना वैक्सीन खोज रही है। भारत भी इस रेस में है। भारत की तीन वैक्सीन अंतिम चरणों के ट्रायल में हैं और कामयाबी से बस कुछ ही कदम दूर हैं। भारत बायोटेक द्वारा भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) और राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (NIV) के साथ मिलकर तैयार की गई कोरोना वैक्सीन ‘Covaxin’ से देश को बड़ी उम्मीदें हैं। क्योंकि, इसके शुरुआती चरणों के ट्रायल में बहुत अच्छे रिजल्ट सामने आए थे।

कब लॉन्च होगी भारतीय कोरोना वैक्सीन?

लेकिन, लोगों के मन में सवाल यही है कि आखिर यह कोरोना वैक्सीन कब लॉन्च होगी। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, भारत बायोटेक की देसी कोरोना वैक्सीन ‘Covaxin’ फरवरी में आ सकती है। इसकी लॉन्चिंग अनुमानित समय से काफी पहले हो सकती है। यह जानकारी न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने सरकार से जुड़े एक वैज्ञानिक के हवाले से दी है। बता दें कि पहले कहा जा रहा था कि यह वैक्सीन साल 2021 की दूसरी तिमाही के बीच आएगी।

2021 की दूसरी तिमाही का था लक्ष्य

यह जानकारी भारत बायोटेक के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी निदेशक साई प्रसाद ने समाचार एजेंसी पीटीआई से बातचीत में कुछ वक्त पहले कही थी। साई प्रसाद ने कहा, ‘‘यदि हम परीक्षण के अपने अंतिम चरण में मजबूत प्रायोगिक साक्ष्य और डेटा, प्रभावकारिता तथा सुरक्षा डेटा स्थापित करने के बाद सभी अनुमोदन प्राप्त करते हैं, तो हम 2021 की दूसरी तिमाही में इसे पेश करने का लक्ष्य रखते हैं।”

ट्रायल की क्या हैं तैयारियां?

उन्होंने कहा कि कंपनी ने ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) से तीसरे चरण का नैदानिक परीक्षण करने के लिये अनुमोदन प्राप्त करने के बाद तीसरे चरण के परीक्षण के लिये स्थलों की तैयारी शुरू की गई है। प्रसाद ने कहा, “13-14 राज्यों में 25 से 30 स्थलों पर आयोजित होने वाले इस चरण में वैक्सीन और प्लेसबो प्राप्तकर्ताओं को दो खुराकें दी जाएंगी। एक अस्पताल में लगभग 2,000 लोगों को पंजीकृत किया जा सकता है।’’

रेस में हैं और भी वैक्सीन कैंडिडेट

गौरतलब है कि Covaxin को भारत बायोटेक ने NIV में विकसित SARS-Cov-2 के इनएक्टिवेटेड स्ट्रेन से तैयार किया है। बता दें कि  Covaxin के अलावा देश में दो और कोरोना वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। इनमें ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की ‘Covishield’ और जायडस कैडिला की ZyCoV-D वैक्सीन शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *