कोरोना संकट से जूझते जरुरतमंदों का राशन डकारना देशद्रोह के समान-चित्रा सरवारा

Spread the love

कोरोना संकट से जूझते जरुरतमंदों का राशन डकारना देशद्रोह के समान-चित्रा सरवारा
सरकार आरोपी राशन डिपो धारक पर तत्काल जांच के बाद करे कड़ी कार्रवाई
अनूप कुमार सैनी
अम्बाला, मई। हरियाणा डैमोक्रेटिक फ्रंट की दिग्गज नेत्री चित्रा सरवारा ने कहा है कि कोरोना संकट से जूझते जरुरतमंदों का राशन डकारना देशद्राेह के समान है। सरकार ऐसे आरोपी राशन डिपो धारकों पर तत्काल जांच के बाद कड़ी कार्रवाई करे। उन्होंने कहा कि अभी हाल ही में एक ऐसा मामला संज्ञान में आया है, जिसमें एक ही परिवार के पास 2 राशन डिपो हैं।
युवा नेत्री ने बताया कि ये राशन डिपो टुंडला और अम्बाला छावनी के तोपखाना परेड में चल रहे हैं। इन इलाकों के जरुरतमंदों में राशन न मिलने के कारण काफी समय से रोष था। सूचना मिलने पर सोशल मीडिया से जुड़े कुछ जागरूक युवाओं ने मौके की वीडियो बनाकर संबंधित अधिकारियों के संज्ञान में मामला पहुंचाया।
सूचना मिलते ही जब अम्बाला के डीएफएससी निशांत राठी ने पुलिस बल की मौजूदगी में रेड की तो न केवल काफी मात्रा में जरुरतमंदाें का राशन एक जगह छिपाया हुआ मिला बल्कि राशन डिपुओं के राशन रजिस्ट्र का मिलान करने पर काफी धांधली पाई गई। उन्होंने कहा कि यदि डिपो धारक ने राशन बांटने के मकसद से डिपो खोला था तो वहां न तो राशन तोलने की मशीन पाई गई और न ही डिपो होल्डर ने बाहर यह बोर्ड लगाया कि यह सरकारी राशन का डिपो है।
यहां मौजूद जरूरतमंद लोगों ने यह आरोप भी लगाया कि इस डिपो धारक ने अभी तक जितना भी राशन बांटा उसकी कोई रसीद कार्ड होल्डर काे नहीं दी गई। जब डीएफएससी निशांत राठी ने यहां रेड की तो उन्हें यहां कोई राशन बांटने वाली बायोमैट्रिक मशीन नहीं दिखी हालांकि डीएफएससी निशांत राठी की मौजूदगी में इन दोनों डिपुओं को सील करके इनकी सप्लाई को निलंबित कर दिया गया है लेकिन जरुरतमंदों के राशन में इतने बड़े पैमाने की धांधली को एक छोटी सी कार्रवाई से रोका नहीं जा सकता।
चित्रा सरवारा ने कहा कि इस घटना के 2 दिन बाद भी प्रदेश सरकार की ओर से इन डिपो धारकों के खिलाफ ऐसी कार्रवाई नहीं की गई, जिससे सबक लेकर बाकी डिपो धारक धांधलीबाजी करने की हिम्मत न कर सकें। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट से जूझ रहें लोगों को राहत देने के लिए विपक्षी पार्टियों के साथ साथ अनेक समाजसेवी संस्थाएं खुले दिल से मदद कर रही हैं लेकिन सरकार की ओर से भेजी जाने वाली नामात्र की मदद को भी कुछ डिपो धारक बेरहमी से डकार रहे हैं।
उनका कहना था कि ऐसे लोगों के खिलाफ देशद्रोह जैसी कार्रवाई अमल में लाई जानी चाहिए। ऐसे राशन डिपो धारकों के लाईसेंस तत्काल प्रभाव से हमेशा के लिए रद्द कर देने चाहिए ताकि भविष्य में कोई जरुरतमंद लोगों का राशन न डकार सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *