अलगाववादी नेता यासीन मलिक पर लगा पीएसए

Spread the love

हिरासत में रखा जा सकता है. अलगाववादी नेता यासीन मलिक को 22 फरवरी को हिरासत में लिया गया था.
ाजनीतिक नेता के खिलाफ पीएसए के उपयोग की कड़ी निंदा करती हैं.
गौरतलब है कि पिछले दिनों सरकार ने यासीन मलिक और कट्टरपंथी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के कुछ नेताओं की सुरक्षा वापस ले ली थी. बाद में मलिक ने कहा था कि उन्हें राज्य से कभी कोई सुरक्षा नहीं मिली. मलिक ने कहा था, मेरे पास पिछले 30 सालों से कोई सुरक्षा नहीं है. ऐसे में जब सुरक्षा मिली ही नहीं तो वे किस वापसी की बात कर रहे हैं. ये सरकार की तरफ से बिल्कुल बेईमानी है. मलिक ने संबंधित सरकारी अधिसूचना को ‘झूठ करार दिया. सरकार ने बुधवार को कहा था कि मलिक और गिलानी समेत 18 अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा वापस ले ली गई है.
००

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *